paranormal expert mumbai india black magic solutions evil spirit protection spellcast reversal property healing

***Order Your Evil Spirit Protection Kit ! Be Protected .. Be Safe ! ...... Contact Dr.: Nirvan Anand : whatsapp +91 7048659267



27 different ghosts found in India!

  1. 1.      Bhoot  : A Common Ghost or a spirit of a departed ancestor  It is believed in India that  a spirit of departed ancestor troubles only his descendants to settle his give and take account with them, On the other hand, a ghost troubles any human being, using its black energy regardless of them being their descendants.
  2. 2.       Pretas : Ghosts of Hindu men who died by violence and whose corpses were disposed without getting the death rituals done for them by their family." They are said to be very powerful and mean.

  3. 3.      Hadal (Female Goblin):  They have a strong odor around them, like that of a rotten egg. Generally, they affect the person without possessing.  Their main duty is to provide material required for doing black magic, for example bones, skulls etc.  or to help sorcerers  or mantriks digging out bodies from the cemetery for their rituals.
  4. 4.      Chetkin(Witch) : They are the witches in subtle form with foul smell. People possessed by Witches (Chetkins) laugh continuously. Chetkins can take various forms. They possess a person to cause accidents. They also take control of subtle bodies of their victims to make them work according to Chetkins wishes. They also train them in performing rituals to manifest black energy. They are capable of taking complete control of a house and can then devastate the entire family living there.
  5. 5.      Mumiai : Mumiai is an Indian poltergeist that invades most of the homes throughout Mumbai area.
  6. 6.      Virikas : They are small spirits that appear surrounded by a reddish mist and make guttering noise.
  7. 7.      Mohini : These are the ghosts of women and girls who were either deprived of or faced failure in love and committed suicide. They are also the spirits of those women who dies with unfinished wish of physical desires. It is said that they return as vengeful spirits. Most of them are given domain over a certain area which they haunt. They are said to seduce males who fall for their charm and fulfill their physical needs. People in India have different thought on them. Some say that these spirits are harmful as they use their victim till his death. Some say these are the spirits which gives material gains to their victim in exchange of physical satisfaction. These kinds of Spirits are also mentioned in western Demonology especially known as Incubus or Succubus. Incubus is a male inhuman spirit which uses women to satisfy their unfinished physical needs. Succubus on the other hand is the female version of Incubus.
  8. 8.      Shaakini: They are the ghosts of married women who died in early stages of their marriage either due to any accident or illness. Some say that the women who are killed for dowry become such kind of ghost and return to haunt their killers. These are considered little dangerous but easily taken out of house.

  9. 9.      Daakini :Another female ghost often mixed up and confused with the Shaakini. These ghosts are that of women who died an untimely death due to any reason.
  10. 10.  Kutti Chetan (Kutti saithan) [Karnataka/Tamil Nadu] : They are little mischievous ghosts. People say that these ghosts are those of children who died at early childhood. They seem to have a naughty and mischievous nature that of a child
  11. 11.   Penchapechi [West Bengal]: It is a rare ghost, the Penchapechi takes the form of owls and haunt the Bengal forests. The ghost follows travelers through the woods until they are completely alone before it strikes. Unlike other ghosts, the  Penchapechi actually consumes its victims, feeding on their body almost  like vampires.
  12. 12.  Brahmodoityas[West Bengal] : They are the ghosts of Brahmins, and might bless you if you keep them happy or become your worst enemy if you disrespect them.
  13. 13.  Skondhokatas [West Bengal] : They are the headless ghosts of people who died in train accidents or any other accident and lost their head.
  14. 14.  Nishi [West Bengal] : They are the ghosts or phantom travelers who call people by their names in the night at a way of forest and lead them away, the people called by a Nishi are never seen again.
  15. 15.  Kolli devva [Karnakata] : Kolli devva is a type of spirit in Karnataka which is said to be running through the forests and woods holding torches. (We recognize them as Will-o-Wisp or Light Balls which are mainly caused by the oxidation of phosphine and methane, produced by organic decay which often result in photon/Light emissions. )
  16. 16.  Kallurty, Panjurli, Koti Chennayya [Karnataka]: These ghosts are famous people who died and are worshipped today as part of an elaborated ritual. 
  17. 17.  Kichchin [Bihar] : These are lustful female spirits who pray on young men for their physical needs. We call them Succubus.
  18. 18.  PanDubba; Dubbi; Dubba [Bihar]: These are the ghosts of people who died by drowning in the river of lakes. They are said to be short, muscular and are also known for their strength. They are reported asking people for alcohol or tobacco to spare their lives. If refused, they drag the person inside the lake or river. 
  19. 19.  Chudail [Northern India] They are the most distinguished kind of female ghost who are said to be alluring travellers and kill/possess them and are reported living mostly on Banyan tress.
  20. 20.  Bura Dangoria [Assam]: A holy spirit dressed in white clothes and a white turban, sometimes  seen on a white horse who guards Namghars, the community places of  worship where the sacred Bhagvat Gita is kept.
  21. 21.  Baak [Assam] :  A malevolent ugly ghost that sometimes kills a person and takes on  the corpse' s appearance.Often said to be  found near isolated ponds and  lakes.
  22. 22.  Khabees [North India-Pakistan-Gulf-Europe]: Khabees is a type of Inhuman Spirit belonging to the Jinn family. Khabees are said to be living with their family. Where ever they live, they live with their family member and they also marry, have kids and have power to demean humanity.
  23. 23.  Ghoda Paak [Assam]: Has the hooves of a horse, but is otherwise human. Some stories show it as helpful, while others call it so deadly that you die when it looks at you.
  24. 24.  Bira (Poltergeist) [Assam]: Like all poltergeists in the rest of the world. Usually said to be set lose on a family by an enemy. People summon them to unleash them on enemies in order to eliminate and torture them.
  25. 25.   Jokhini  [Assam/Bihar] :  A female demon that often tries to lure males and kill them.
  26. 26.  Bordoisila(the storm goddess) [Assam]: A storm which takes place in Assam every April . This storm is said to be the storm goddess which returns to her husband's house after visiting her mother for the Assamese new  year which is around that time.
  27. 27.  Puwali Bhoot (small ghosts) [Assam] : These are tiny, mischievous ghosts who steal rice and sweets from a house Kitchen.
Image description

भूत-प्रेत से जुड़े दस सवाल और उनके उत्तर

सवाल 1 : प्रेत क्या है और प्रेत किसे कहते हैं?
जवाब : पितृ शब्द से बना है प्रेत। स्थूल शरीर छोड़ने के बाद मान्यता अनुसार जो अंतिम क्रिया और तर्पण-पिंड या श्राद्ध कर्म करने तक व्यक्ति प्रेत योनी में रहता है तो उसे प्रेत कहते हैं। तीसरे, तेरहवें, सवा माह या एक वर्ष तक वह प्रेत योनी में रहता है।

एक वर्ष के भीतर वह यदि पक्का स्मृतिवान है तो जीवात्मा पितृलोक चला जाता है तब उसे पितर या पितृ कहा जाता है। लेकिन यदि नहीं गया है तो और यहीं धरती पर ही विचरण कर रहा है तो वह प्रेत या भूत बनकर ही तब तक रहता है जब तक कि उसकी आत्मा को शांति नहीं मिल जाती।


सवाल 2 : भूत या प्रेत बाधा से ग्रसित व्यक्ति व्यक्ति का उपचार हो सकता है होता है तो कैसे?
जवाब : भूत या प्रेत बनी जीवात्मा की मानसिक शक्ति इंसानों से कहीं अधिक ताकतवर होती है। ऐसे व्यक्ति अपनी शांति के लिए या किसी से बदला लेने के लिए दूसरों के मन और मस्तिष्क पर कब्जा कर लेते हैं। ऐसे में भूत बाधा ग्रस्त व्यक्ति का आध्यात्मिक रूप से इलाज करना जरूरी होता है।

इसके लिए व्यक्ति को हनुमान की शरण में जाना चाहिए या योगसाधना के द्वारा अपनी शारीरिक और मानसिक शक्ति को बढ़ाना चाहिए। ऐसे व्यक्ति को ध्यान रखना चाहिए कि वो मन, वचन और कर्म से शुद्ध और पवित्र रहे। पवित्र रहने वाले व्यक्ति के आसपास भूत नहीं फटकते हैं।

ऐसे व्यक्ति को अंधकार से दूर रहकर ध्यान द्वारा मन और मस्तिष्क में सकारात्म ऊर्जा का संचार करना चाहिए। तेरस, चौदस, अमावस्य और पूर्णिमा के दिन व्यक्ति शुद्ध और निर्मर बना रहे। मंगलवार और रविवार के दिन विशेष ध्यान रखे और इस दिन अंधकार या बाहरी प्रवास से बचे।

 

सवाल 3 : भूत के कितने वर्ग और प्रकार होते हैं।
जवाब : वर्ग की बात करें तो प्रेत आत्माएं भी इंसानों की तरह सतोगुणी, रजोगुणी और तमोगुणी होती है। सतोगुणी आत्माएं किसी को परेशान नहीं करती और सदा शांत रहकर लोगों की मदद करती हैं। रजोगुणी आत्माओं का कोई भरोसा नहीं, वे अपनी इच्छापूर्ति के लिए संस्कार अनुसार कार्य करती है ऐसी आत्माएं किसी के भी शरीर में प्रवेश कर अपनी इच्छा की पूर्ति कर सकती है। तमोगुरु आत्माएं सदा लोगों को परेशान करती रहती है।

ऐसी आत्माएं धरती पर बुराइयों का साथ देती हैं जो लोग सदा मांस भक्षण और शराब इत्यादि का सेवन करते रहते हैं उनके आसपास तमोगुणी आत्माएं रहती है।

भूतों के प्रकार : हिन्दू धर्म में गति और कर्म अनुसार मरने वाले लोगों का विभाजन किया है- भूत, प्रेत, पिशाच, कूष्मांडा, ब्रह्मराक्षस, वेताल और क्षेत्रपाल। उक्त सभी के उप भाग भी होते हैं। आयुर्वेद के अनुसार 18 प्रकार के प्रेत होते हैं। भूत सबसे शुरुआती पद है या कहें कि जब कोई आम व्यक्ति मरता है तो सर्वप्रथम भूत ही बनता है।

इसी तरह जब कोई स्त्री मरती है तो उसे अलग नामों से जाना जाता है। माना गया है कि प्रसुता, स्त्री या नवयुवती मरती है तो चुड़ैल बन जाती है और जब कोई कुंवारी कन्या मरती है तो उसे देवी कहते हैं। जो स्त्री बुरे कर्मों वाली है उसे डायन या डाकिनी करते हैं। इन सभी की उत्पति अपने पापों, व्याभिचार से, अकाल मृत्यु से या श्राद्ध न होने से होती है।


सवाल 4 : कहां रहते हैं भूत-प्रे‍त?
जवाब : भूत निवास के संबंध में मान्यता है कि वे सालों से सुनसान पड़े मकान में, किसी तालाब किनारे के वृक्षों पर या खंडहर में निवास करते हैं। इसके अलावा वे नकारात्मक तमोगुणी मनुष्य के शरीर पर कब्जा पर उसके पास ही रहते हैं।

कुछ लोग मानते हैं कि भूत-प्रेत अंधेरे और दुर्गन्धयुक्त किसी मलिन स्थानों पर भी रहते हैं और पैसे ही पदार्थों का सेवन भी करते हैं।


सवाल 5 : कौन बन जाता है भूत या प्रेत?
जवाब : अतृप्त आत्माएं बनती है भूत। जो व्यक्ति भूखा, प्यासा, संभोगसुख से विरक्त, राग, क्रोध, द्वेष, लोभ, वासना आदि इच्छाएं और भावनाएं लेकर मरा है अवश्य ही वह भूत बनकर भटकता है। तमोगुण प्रधान व्यक्ति भी भूत बनकर भटकते हैं।

और जो व्यक्ति दुर्घटना, हत्या, आत्महत्या आदि से मरा है वह भी भू‍त बनकर भटकता है। ऐसे व्यक्तियों की आत्मा को तृप्त करने के लिए श्राद्ध और तर्पण किया जाता है। जो लोग अपने स्वजनों और पितरों का श्राद्ध और तर्पण नहीं करते वे उन अतृप्त आत्माओं द्वारा परेशान होते हैं।

 

सवाल 6 : भूत, प्रेत बाधा से ग्रस्त व्यक्ति के क्या लक्षण हैं?
जवाब : अगल अलग प्रेत होते हैं जो व्यक्ति जिस प्रेत के वश में होता है उसके वैसे वैसे लक्षण होते हैं। सामान्य तौर पर प्रेत बाधा से ग्रस्त व्यक्ति की आंखें स्थिर, अधमुंदी और लाल रहती हैं। उके नाखून काले हो जाते हैं।

इस संबंध में संपूर्ण जानकारी

भूतादि से पीड़ित व्यक्ति की पहचान उसके स्वभाव एवं क्रिया में आए बदलाव से की जाती है। अगल-अलग स्वाभाव परिवर्तन अनुसार जाना जाता है कि व्यक्ति कौन से भूत से पीड़ित है।

भूत पीड़ा : यदि किसी व्यक्ति को भूत लग गया है तो वह पागल की तरह बात करने लगता है। मूढ़ होने पर भी वह किसी बुद्धिमान पुरुष जैसा व्यवहार भी करता है। गुस्सा आने पर वह कई व्यक्तियों को एक साथ पछाड़ सकता है। उसकी आंखें लाल हो जाती हैं और देह में सदा कंपन बना रहता है।

पिशाच पीड़ा : पिशाच प्रभावित व्यक्ति सदा खराब कर्म करना है जैसे नग्न हो जाना, नाली का पानी पीना, दूषित भोजन करना, कटु वचन कहना आदि। वह सदा गंदा रहता है और उसकी देह से बदबू आती है। वह एकांत चाहता है। इससे वह कमजोर होता जाता है।

प्रेत पीड़ा : प्रेत से पीड़ित व्यक्ति चिल्लाता और इधर-उधर भागता रहता है। वह किसी का कहना नहीं सुनता। वह हर समय बुरा बोलता रहता है। वह खाता-पीता नही हैं और जोर-जोर से श्वास लेता रहता है।

शाकिनी पीड़ा : शाकिनी से ज्यादातर महिलाएं ही पीड़ित रहती हैं। ऐसी महिला को पूरे बदन में दर्द बना रहता है और उसकी आंखों में भी दर्द रहता है। वह अक्सर बेहोश भी हो जाती है। कांपते रहना, रोना और चिल्लाना उसकी आदत बन जाती है।

चुडैल पीड़ा : चुडैल भी ज्यादातर किसी माहिला को ही लगती है। ऐसी महिला यदि शाकाहारी भी है तो मांस खाने लग जाएगी। वह कम बोलती, लेकिन मुस्कुराती रहती है। ऐसी महिला कब क्या कर देगी कोई भरोसा नहीं।

यक्ष पीड़ा : यक्ष से पीड़ित व्यक्ति लाल रंग में रुचि लेने लगता है। उसकी आवाज धीमी और चाल तेज हो जाती है। वह ज्यादातर आंखों से इशारे कहता रहता है। इसकी आंखें तांबे जैसी और गोल दिखने लगती हैं।

ब्रह्मराक्षस पीड़ा : जब किसी व्यक्ति को ब्रह्मराक्षस लग जाता है तो ऐसा व्यक्ति बहुत ही शक्तिशाली बन जाता है। वह हमेशा खामोश रहकर अनुशासन में जीवन यापन करता है। इसे ही जिन्न कहते हैं। यह बहुत सारा खाना खाते हैं और घंटों तक एक जैसे ही अवस्था में बैठे या खड़े रहते हैं। जिन्न से ग्रस्त व्यक्ति का जीवन सामान्य होता है ये घर के किसी सदस्य को परेशान भी नहीं करते हैं बस अपनी ही मस्ती में मस्त रहते हैं। जिन्नों को किसी के शरीर से निकालना अत्यंत ही कठीन होता है।

इस तरह से और भी कई तरह के भूत होते हैं जिनके अलग अलग लक्षण और लक्ष्य होते हैं।

उसका सामान्य व्यवहार नहीं होते। स्वभाव में अत्यधिक क्रोध, जिद और उग्रता पैदा हो जाती है। शरीर से बदबूदार पसीना आता रहता है और कहीं कहीं सूजन रहती है।


सवाल 7  : क्यों नहीं दिखाई देती प्रेत आत्माएं हम लोगों को दिखाई क्यों नहीं देतीं?
जवाब : जीवित मनुष्य का शरीर पांच तत्वों से बना होता है जिसमें पृथ्वी तत्व सबसे अधिक होता है। जबकि मरने के बाद जीवात्मा सूक्ष्म शरीर में प्रवेश कर जाती है।

सूक्ष्म शरीर में वायुत्व की अधिकता होती है जिससे वे दिखाई नहीं देते। केवल उनका स्पर्श और अस्तित्व महसूस होता है। इस शरीर को केवल अंधकार में देखा जा सकता है। रात के घोर अंधकार में भी देख सकने वाले कुत्तों, बिल्ली, सियार और उल्लू जैसे निशाचारी प्राणियों को ये आसानी से दिखाई देते हैं।

 

सवाल 8 : किन लोगों को भूत-प्रेत परेशान नहीं कर सकते?
जवाब : जो व्यक्ति ईश्वर की प्रार्थना करता रहता है उसके चेहरे पर तेज नजर आता है। हजारों देवी-देवताओं की पूजा-पाठ से श्रेष्ठ है ईश आराधना।

इसके अलावा योग साधना, ध्यान साधना करने वालों लोगों से भूत दूर ही रहते हैं क्योंकि ऐसे व्यक्तियों का आभा मण्डल विराट हो जाता है जिससे डरकर भूत भाग जाते हैं। अभा मंडल कमजोर है तो भूत ऐसे व्यक्ति पर आसानी से कब्जा पर लेते हैं।

इसके अलावा वे लोग ‍जो शारीरिक और मानसिक स्तर से मजबूत हैं उन्हें भी भूत परेशान नहीं कर सकते। मन में ईश्वर और खुद के प्रति विश्वास और दृढ़ता होना जरूरी है। भूत बाधा केवल कमजोर मन और शरीर वाले प्राणियों, विशेष रूप से महिलाओं, बच्चों तथा कमजोर दिमाग वाले व्यक्तियों को परेशान करते हैं।


सवाल 9 : क्या भूत प्रेत के फोटो खिंच सकते हैं?
जवाब : आजकल अमेरिका और रूस में ऐसे कई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और कैमरे हैं जिनके बल पर किसी भी सूक्ष्म से सूक्ष्म चीज को कैमरे में कैद किया जा सकता है। दूसरी और कभी-कभार भूत अपनी शक्ति के बल पर प्रकाट हो जाते हैं ऐसे समय उनका फोटो खिंचा जा सकता है।


सवाल 10 : क्या भूत-प्रेतों को वश में करने की कोई विधि है?
जवाब : भूत-प्रेतों को वश में करने का बहुत से लोग दावा करते हैं। इसके लिए उनके अनुसार भूतों से संबंधित विशेष मंत्र साधनाओं की जाती है लेकिन ऐसी आत्माएं अपना स्वार्थ साधन न होने पर वश में करने वाले का ही अहित भी कर देती हैं।

भूत-प्रेतों की साधना करके उन्हें अपने वश में करने के क्या भयानक परिणाम हो सकते हैं। जो व्यक्ति भूत-प्रेतों को वश में करता है वे भूत-प्रेत उस व्यक्ति के शरीर और मन के शक्ति संपन्न रहने तक ही उसके अनुसार कार्य करते हैं। शरीर और मन के कमजोर होते ही वे उस व्यक्ति की दुर्गति आरंभ कर देते हैं।

paranormal expert mumbai india black magic solutions evil spirit protection spellcast reversal property healing